कांठल के कलमकार ने लिखी वृक्ष (पर्यावरण) चालीसा - Apna Pratapgarh

Advertise Your Business Here

test

Thursday, June 4, 2020

कांठल के कलमकार ने लिखी वृक्ष (पर्यावरण) चालीसा

विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून के अवसर पर कांठल के अरनोद निवासी अध्यापक कमलेश शर्मा "कवि कमल" ने वृक्ष चालीसा की रचना की। कमलेश शर्मा अरनोद के पास साखथली खुर्द के रहने वाले है तथा वर्तमान में अरनोद में रहते है। ये राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय धुरावतों का खेड़ा (अचलावदा) में विज्ञान शिक्षक के पद पर कार्य कार्यरत है। इन्होंने कई कविताएं और गीत लिखे है और उनका प्रकाशन  कई पत्र पत्रिकाओं में भी हो चूका है। पर्यावरण दिवस पर वृक्ष चालीसा लिख कर इन्होंने स्थानीय विधायक  महोदय रामलाल जी मीणा, जिला कलेक्टर महोदया अनुपमा जोरवाल, शिक्षा विभाग के CDEO महोदय युगल बिहारी दाधीच, DFO महोदय संग्राम सिंह कटियार, क्षेत्रीय वन अधिकारी महोदय धारा सिंह राणावत, ADPC सुनील जी भट्ट, CBEO महोदय कैलाश चंद्र तेली अरनोद तथा कई अधिकारियों को भेंट स्वरुप प्रदान की। इस कार्य में सभी द्वारा शर्मा की सराहना की गयी । कवि कमल ने बताया कि इस चालीसा लिखने में जिन सभी गुरुजनों, मार्गदर्शक और मित्रों ने  इसमें सहयोग दिया है उन सभी को बहुत आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूं। शर्मा ने वर्तमान हालात के ऊपर भी कई कविताओं को लिखा है ये लोगो को जागरूक करने का एक माध्यम भी हे। इस अवसर पर लोगो में जागरूकता के लिए जो भी प्रयास किये जा रहे हे वो सराहनीय है। सभी विभाग वालो को बहुत बहुत धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

कांठल के कलमकार ने लिखी वृक्ष (पर्यावरण) चालीसा

दोहा 

विश्‍व दिवस पर्यावरण, प्राणिजगत से नेह ।

  अग्नि,मेघ,जल,वायु,क्षिति, गढ़ते मानव देह ।।

पाँच जून इक दिवस विशेषा ।  बिना वृक्ष जीवन अवशेषा।।
पादप प्राण वायु दिलवाएं । जल जीवन आधार बनाएँ।।
वृक्ष धरणि अनुपम श्रृंगारा ।  भेंट देहि जन विविध प्रकारा।।
रंग बिरंगे पुष्प नित पाते ।  सुन्दर सरस आँगन महकाते।।
सबसे मधुरम फल हम खाते ।  वह सब कानन से है आते।।
धूप ताप जब अति कर जाई ।  तरु पल्लव छाया मन भाई।।
जो भी नित नित पेड़ लगावे ।  उस भू पर अकाल ना आवे।।
बिन तरूवर वर्षा नहीं होई ।  चाहे लाख जतन कर कोई।।
नदियां कल-कल करती जाती ।  धरती हरी-भरी हो जाती।।
अब न करो तुम इसका शोषण ।  फैला है अब घोर प्रदूषण।।
वैश्विक उष्णता है बहु भारी ।  वृक्ष लगाकर बन हितकारी।।
स्वार्थ भाव से वन को काटा ।  प्रकृति मार रही बहु चाटा।।
पहले किया इसका बहु भक्षण ।  आओं मिलकर करे संरक्षण।।
सब जन इक-इक वृक्ष लगाएं ।  हम सब से संकल्प कराएं।।
परम सुखी हो सब जन देशा ।  रहे निरोग न हो कछु क्लेशा।।
वृक्ष हमारे जीवन दाता ।  यही हमारे भाग्य विधाता।।
माता अब है हमें बुलाती । पेड़ लगा कर करो प्रभाती।।
अब न करो कोई अपराधा ।  मिलकर दूर करें यह बाधा।।
कहती हमें सभी सरकारें ।  जागों, उठो, लगाओ नारे।।
इस धरती का कर्ज चुकाओ ।  हर शुभ दिन पर वृक्ष लगाओ।।
संभल जाओ स‍ब नर नारी ।  फिर जीवन ना होय दुखारी।।
विपदा कर देगी जब धावा ।  धरती ताप प्रबल बढ़ जावा।।
ए.सी. फ्रिज ना कछु कर पावें । दिन दिन वृक्ष अगर कट जावें।।
दूषित द्रव्‍य बढ़े निस दीन्हा ।  तह ओज़ोन में छिद्र कीन्हा ।।
दंड न देई कोई शासन ।  जो खुद पर राखे अनुशासन।।
वृक्ष लता मन को अति भाते ।  कंद मूल फल औषधि पाते ।।
गरजे तब तब घन अतिभारी ।  धरा वधू  सी लागे प्‍यारी ।।
जब जब बढ़त जात जनसंख्या। तेहि विधि घटत पादप संख्या।।
बिन पेड़ों  के मेघ न बरसे। पेड़ लगे तो हम ना तरसे ।।
जीव जन्‍तु पशु पंछी सारे।  विचरण करते तेरे द्वारे ।।
काज करो जनहित उपकारा ।  मिले जीवन तब सुख अपारा।।
सादर नमन सहित जो ध्यावे ।  धन दौलत से घर भर जावे।।
निस दिन इनको नीर पिलाता । विटप छाँव फल प्रसून पाता ।।
पवन शुद्ध पातें दिन राता ।  जय हो वृक्ष सकल सुख दाता ।।
वृक्ष देव को पुष्प चढ़ावे।  अपना क्या जो भोग लगावे।।
रोजी रोटी सबको देता ।  हमसे यह कछु नाही लेता ।।
अहोभाग्य है जीवन मेरा ।  निस दिन पाता दर्शन तेरा।।
जो पढ़े पर्यावरण चालीसा।  सब विधि शुभकारी गौरीसा ।।
इक दिन भी हम भूल न पावा ।  हर पल वृक्ष ध्यान में लावा।।
"कमल" सभी को यही बतावे ।  वृक्ष लगावें प्राण बचावें।।

 दोहा

               कहत कमल सबसे यही, मानव पेड़ लगाय ।

            सब प्रसन्‍न सब पर कृपा, माँ प्रकृति कर जाय ।।


©कमलेश शर्मा "कवि कमल"
मु. पो.-अरनोद, जिला :- प्रतापगढ़ (राज.)
मो.9691921612

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Advertise Your Business Here

banner image